पहला पन्ना....

Untitled-1 copy
मैं न तो महान् ज्योतिषाचार्य हूँ न महान् वास्तुशास्त्री हूँ । इस स्वनिर्मित `महान´ शब्द से तो मैं सदैव कौसों दूर रहना चाहता हूँ । मैं इतना अवश्य जानता हूँ कि संगीत संसार का जिंदा जादू था, है और रहेगा। सरगम के सांचों में ढला हुआ शब्द चरमोत्कर्ष पाकर शब्द-ब्रह्म बन जाता है। संगीत की सिद्ध स्वर-लहरियाँ गायक को ही नहीं, श्रोताओं को भी अमर करने की सामथ्र्य रखती हैं, यथा-श्रीकृष्ण व गोपियाँ।
कवि अमृत "वाणी"

चल चित्र



आपका स्वागत है
अमृत 'वाणी' की यूनिकोड सज्जित इस नई वेबसाइट में आपका स्वागत है। इस वेब साईट में आप भारतीय संस्कृति, धर्म ,कला, वास्तु , और हिंदी व राजस्थानी साहित्य को जान सकेंगे , अधिक जानकारी के लिए आप हमें मेल करे ”

चित्रशाला


रचित एवं प्रकाशित पुस्तकें

  • महालक्ष्मी चालीसा
    भादवा माता चालीसा
    सरस्वती चालीसा
    नवी हनुमान चालीसा
    चमत्कार चालीसा
    चित्तोड़ चालीसा
    मीरा चालीसा
    हस्ता हुआ वास्तु शास्त्र
    आखर कुंडली

.

counter

Follow us on……

FaceBook-Logo Twitter logo Untitled-1 copy

  © Free Blogger Templates 'Photoblog II' by Ourblogtemplates.com 2008

Back to TOP